बिहार में शराबबंदी पर एलजेपी vs जेडीयू: चिराग के आरोपों पर नीतीश का पलटवार- 'मुझे सत्‍ता से हटाना चाहते हैंं धंधेबाज'

बिहार में पहले चरण के मतदान के लिए आज शाम प्रचार थम जाएगा। इसके पहले सभी दलों के नेताओं ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। सोमवार सुबह प्रचार के लिए जाते समय चिराग पासवान ने सीएम नीतीश कुमार पर एक बार फिर तीखे हमले किए। चिराग ने शराबबंदी पर सवाल उठाते हुए आरोप लगाया कि बिहार में तस्‍करी चरम पर है। सरकार और प्रशासन की मिलीभगत से बिहार में शराब की होम डिलीवरी हो रही है।

इस पर जनता दल यू के नेताओं ने पलटवार करते हुए कहा कि चिराग बहकने लगे हैं। खुद सीएम नीतीश कुमार ने लक्‍खीसराय की अपनी रैली में कहा कि शराबबंदी के खिलाफ बिहार में माहौल बनाया जा रहा है। ऐसा करने वाले असल में खुद धंधेबाज हैं। धंधेबाज लोग ही इस कानून के खिलाफ माहौल बनाने में लगे हैं। शराब माफिया चाहते हैं कि किसी तरह उनकी सरकार को हटाया जाए।

चिराग पासवान, बिहार में जनता दल यू और मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर लगातार हमले कर रहे हैं। सोमवार को उन्‍होंने एक बार फिर सत्‍ता में आने पर शराबबंदी के दौरान बिहार में बढ़ी शराब की तस्‍करी और इससे उगाहे गए रुपयों की जांच कराने की बात कही। चिराग ने कहा कि सभी जानते हैं कि रुपए कहां जा रहे हैं। सीएम को चुनाव लड़ना है। कई सारी चीजें करनी हैं। यह सब जांच का विषय है।

हमारी सरकार इसकी जांच करेगी। पता लगाया जाएगा कि शराब तस्‍करी से उगाहे गए रुपए कहां गए। चिराग नहीं रुके। उन्‍होंने कहा कि जो भी दोषी पाया जाएगा उसे जेल जाना होगा। यह कैसे मुमकिन है कि सीएम इतने बड़े पैमाने पर चले घोटाले और भ्रष्‍टाचार से अंजान हों। जांच में सारा सच सामने आ जाएगा। 

क्‍यों नहीं होनी चाहिए शराबबंदी की समीक्षा
चिराग ने सवाल उठाया कि बिहार में शराबबंदी की  समीक्षा आखिर क्‍यों नहीं होना चाहिए। क्‍या प्रदेश में शराब की तस्‍करी नहीं हो रही है। सभी को शराब मिल रही है। सरकार और प्रशासन की मिलीभगत है। बिहार में एक भी मंत्री ऐसा नहीं जिसे यह जानकारी न हो। यदि आप इसकी समीक्षा नहीं  करना चाहते तो इसका मतलब है कि आप इसमें संलिप्‍त हैं। 

 

0 comments

Leave a Reply