मोदी के इस्तीफे की मांग वाली ऑनलाइन याचिका पर रातोंरात 4 लाख से अधिक हस्ताक्षर!

पश्चिम बंगाल में भाजपा की हार के बाद याचिका में केंद्र से मोदी शासन को हटाने की मांग की गई है। चेंज डॉट ओआरजी की याचिका में मांग की गई है कि प्रधान मंत्री कोविड -19 संकट से बचने के कुप्रबंधन की जिम्मेदारी लें

सोशल मीडिया पर आए दिन #resignmodi को ट्रेंड कर रहा है, क्योंकि मोदी सरकार द्वारा कोविड की दूसरी लहर के दौरान नागरिकों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया लगता है। नागरिक जिन्हें कोविड -19 है, या परिवार के सदस्यों को परेशानी है वे सोशल मीडिया पर ऑक्सीजन, अस्पताल के बेड, एम्बुलेंस, दवाइयों, यहां तक ​​कि भोजन के लिए भी सामाजिक संगठनों, नागरिकों के समूहों से अपील कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर बहुत सारे लोगों ने नागरिकों से सहायता और समर्थन पाया है, कई और दुर्भाग्य से मदद पहुंचने से पहले ही मर गए।

यहां तक कि कुछ राजनेता भी हैं जो राज्य या केंद्र सरकारों में इस समय सत्ता में नहीं हैं, वे सोशल मीडिया पर इस तरह के SOS कॉल को बढ़ाते हैं, और स्वयंसेवकों आदि को व्यवस्थित करते हैं। कई कांग्रेस से संबंधित हैं, कुछ स्वतंत्र हैं और खुद को सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में बताते हैं, और इसी तरह के वॉलंटियर्स में कुछ ऐसे भी हैं जो भारतीय जनता पार्टी का हिस्सा हैं, लेकिन चुने हुए प्रतिनिधि नहीं हैं।
 
शायद यह त्याग की भावना है जिसने चार लाख से अधिक नागरिकों को चेंज डॉट ओआरजी याचिका पर हस्ताक्षर करने के लिए प्रेरित किया है, जिसमें मांग की गई है कि प्रधानमंत्री मोदी को इस्तीफा देना चाहिए, क्योंकि वे नागरिकों की जान बचाने में विफल साबित हो रहे हैं और इसी वजह से विदेशी मीडिया में छाए हुए हैं।
 
यह याचिका "चिंतित भारतीय युवा" के रूप में पहचान बताने वाले मृणाल मथुरिया द्वारा शुरू की गई है। इसे 1 मई को Change.org पर अपलोड किया गया था। इसमें विभिन्न व्हाट्सएप समूहों में, सोशल मीडिया पर और व्यक्तिगत मैसेज के रूप में, देश भर में हस्ताक्षर करने की अपील की गई है। मथुरिया का आह्वान है, ''हम अब पीछे नहीं हटेंगे। यह हमारे प्रधानमंत्री के बहरे कानों तक पहुंचना चाहिए।” 
 
पश्चिम बंगाल में भाजपा की विफलता के मद्देनजर, याचिकाकर्ताओं ने यह कहते हुए मांग को अपडेट किया है कि, "बंगाल ने मोदी को बाहर कर दिया है, हमें उन्हें केंद्र से बाहर निकालने की जरूरत है।"

0 comments

Leave a Reply