दिल्ली हिंसा : JNU के पूर्व छात्र उमर खालिद गिरफ्तार, लोगों ने पूछा-कपिल मिश्रा की गिरफ्तारी कब होगी?

 

नई दिल्ली। फरवरी 2020 में दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र नेता रहे उमर खालिद को गिरफ्तार कर लिया गया है। उमर खालिद की यह गिरफ्तारी गैर कानून गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत की गई है। खबरों के मुताबिक उमर को सम्मन जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया गया था, पूछताछ के कुछ घंटों के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। 

उमर की गिरफ्तारी की चर्चा सोशल मीडिया पर भी हो रही है। बड़ी संख्या में सोशल मीडिया यूजर्स उनके समर्थन में उतरे हैं। ट्वीटर पर इस समय टॉप ट्रेंड में 'आई स्टैंड विद उमर खालिद' भी शामिल है। उनकी गिरफ्तारी को लेकर लोग सरकार पर निशाना साध रहे हैं। 

फिल्म अभिनेता प्रकाश राज ने अपने ट्वीट में लिखा, 'शर्मनाक.. अगर हम अभी इस WITCH-HUNT के खिलाफ अपनी आवाज नहीं उठा रहे हैं .. तो हमें शर्म आनी चाहिए।'

 


उमर की गिरफ्तारी के बाद सोशल मीडिया यूजर्स भाजपा नेता कपिल मिश्रा की अबतक गिरफ्तारी न होने पर भी सवाल उठा रहे हैं। बता दें कि पूर्वी दिल्ली में हिंसा से कुछ घंटे पहले कपिल मिश्रा ने धमकी भरे अंदाज में भड़काऊ भाषण दिया था। जिसके बाद हिंसा शुरू हो गई थी लेकिन उनसे अबतक पूछताछ भी नहीं की गई है।
 


वरिष्ठ पत्रकार और लेखिका नताशा बंधवार ने लिखा, 'उमर खालिद निडर है और शांत और वाक्पटु है। वह भूमि, श्रम, जाति, आदिवासी, लिंग और सांप्रदायिकता के सवालों को संबोधित करता है। वह एक ऐसा नेता है जिससे वे डरते हैं।'


द दलित वॉयस ने अपने ट्वीट में लिखा, 'फासीवादी सरकार ने कल रात छात्र नेता और अधिकार कार्यकर्ता उमर खालिद को गिरफ्तार कर लिया, हम उमर खालिद की गिरफ्तारी निंदा करते हैं।'


भाकपा माले के नेता दीपांकर भट्टाचार्य ने लिखा, वह नफरत के खिलाफ और सद्भाव के लिए एक अथक प्रचारक हैं। वह संविधान के कट्टर रक्षक हैं। परंतु अब दिल्ली पुलिस ने उमर कालिद को दिल्ली नरसंहारकर्ता के रूप में गिरफ्तार कर लिया है। यह विच हंटिंग रोको, कपिल मिश्रा और उनके करीबियों को गिरफ्तार करो। 


अनुच्छेद 370 हटाए जाने के खिलाफ इस्तीफा देने वाले आईएएस अधिकार कन्नन गोपीनाथन ने भी ट्वीट कर दिल्ली पुलिस पर निशाना साधा और लिखा, उमर खालिद एक मजबूत और बहादुर लड़का है। कल का भारता का एक लंबा नेता है। दिल्ली पुलिस के कुछ 'येस-मेन' के द्वारा उनकी गिरफ्तारी की गई है जो बुद्धिजीवियों के साथ खड़े नहीं हो सकते।  

0 comments

Leave a Reply