पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर एडिटर्स गिल्ड ने असम के मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया (ईजीआई) ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को पत्र लिखा है कि वे "कामकाजी पत्रकारों की सुरक्षा और संरक्षण" पर अपनी चिंता व्यक्त करें। 

गिल्ड ने "पत्रकारों के खिलाफ हिंसा की बढ़ती घटनाओं" के बारे में ध्यान दिया है और कहा है कि राज्य में काम करने वाले मीडियाकर्मियों पर भीड़ के हमले, धमकी दी गई हैं। इस तरह के हमले "एक स्वतंत्र और जीवंत मीडिया के कामकाज के लिए आवश्यक वातावरण" खराब करते हैं। 

पत्र में कहा गया है कि सोनोवाल ने इन हमलों की "कड़ी निंदा" की थी। मीडिया इस स्थिति को लेकर आश्वासन के लिए तत्काल उनके हस्तक्षेप की मांग करती है कि वे आपराधिक माफियाओं से प्रतिशोध की आशंका के बिना रिपोर्ट करने के लिए सुरक्षित हैं। 

गिल्ड ने कहा कि सीएम के इस तरह के बयान के अभाव में "असुरक्षा की भावना हमलावरों को गले लगा सकती है जो यह मान सकते हैं कि वे कानून से ऊपर हैं।"

गिल्ड ने राज्य में 1991 के बाद मारे गए 32 पत्रकारों की सूची भी दी है। गिल्ड ने कहा कि 1991 के बाद राज्य में मारे गए पत्रकारों के मामलों में अभी तक ठीक से जांच नहीं हुई है। काफी सारे मामलों में अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं और पत्रकारों के परिवार को डरा रहे हैं। हम आशा करते हैं कि आप राज्य की पुलिस को उचित कदम उठाने को कहेंगे ताकि मीडिया में विश्वास की बहाली हो सके और बिना डरे वे काम कर पाएं।

खत में गिल्ड ने पिछले हफ्ते पत्रकार मिलन महंता पर हुए हमले का जिक्र किया। कथित तौर पर रविवार को महंता पर कुछ लोगों ने हमला किया जिसमें उन्हें एक बिजली के खंभे में बांधा गया और पिटाई की गई।

0 comments

Leave a Reply