देवबंद की तारीख़ी मस्जिद 'मस्जिद क़िला ' के लिए किसको चंदा जमा करने की अनुमति दी गई ?

 

देवबंद:  देवबंद की ऐतिहासिक इमारतों में से एक सोलहवीं सदी में पठान बादशाह सिकन्दर लोधी की बनवाई मस्जिद क़िला है। लापरवाही और बेतवज्जुही की वजह से मस्जिद की इमारत की हालत कई साल से बदसेबदतर होती चली जा रही थी यहां तक कि दो साल पहले तेज़ बारिश की वजह से मस्जिद का वुज़ूख़ाना ढह गया था।

आस पड़ोस के लोगों के प्रयासों के बाद 21 अक्तूबर2020को, यूपी वक़्फ़ बोर्ड की मंज़ूरी के बाद, कमेटी बराए मस्जिद क़िला मुतवल्ली समेत तबदील होगईथी। और नया मुतवल्ली अबदुल ग़फ़्फ़ार ख़ान को नियुक्त किया गया था। इस तबदीली का आधिकारिक ऐलान 4 दिसंबर 2020 को बाद नमाज़-ए-जुमा करदिया गया था।

मिस्मार शूदा हिस्से समेतउ सवक़्त मस्जिद में बड़े पैमाने पर पुनर्निर्माण का सिलसिला जारी है

मौजूदा मुतवल्ली अबदुल ग़फ़्फ़ार ख़ान ने कहा है कि’साबिक़ा मुतवल्ली या पिछली कमेटी के किसी भी मेंबर का नई कमेटी सेकोई ताल्लुकन हीं है और ना उनका मस्जिद के इंतिज़ामात में कोई अमलदख़ल है। मस्जिद में जारी तामीरी काम नई कमेटी करवा रही है। इस सिलसिले में किसी को भी कोई भी मालूमात दरकार हों तो सीधे मुझसे ज़ाती तौर पर 02947 84399 पर राबिता क़ायम किया जा सकता है।

ग़फ़्फ़ार ख़ान नेआगे स्पष्ट करते हुए कहा है ’हमने किसी को मस्जिद के लिए चंदा करने की इजाज़त नहीं दी है लिहाज़ा अगर कोई शख़्स मस्जिद क़िला के नाम पर चंदा मांगने आता है तो  साफ़ इनकार कर दें।

 قلعے والی مسجد دیوبند کے سابق متولی جس نے کیمرے پر گولی مارنے کی دھمکی دی تھی 

 

0 comments

Leave a Reply