UAE का स्वर्ण जयंती समारोह : भारत में यूएई के राजदूत Dr Ahmad Albanna की पत्रकारों के साथ बातचीत

6 अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2022 तक, यूएई पिछले 50 वर्षों में अपनी उल्लेखनीय यात्रा का जश्न मनाएगा और अगले 50 की तैयारी शुरू करेगा।

नई दिल्ली : भारत में संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत डॉ अहमद अल्बन्ना ने 24 नवंबर 2021 को  दूतावास में पत्रकारों के समूह के साथ बातचीत की। अपनी बातचीत के दौरान, उन्होंने यूएई के गठन की स्वर्ण जयंती मनाने के बारे में विस्तार से बात की।

राजदूत अल्बन्ना ने कहा कि यूएई के राष्ट्रपति महामहिम शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान ने यूएई के गठन के 50 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में 2021 को '50वें वर्ष' के रूप में घोषित किया है। 6 अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2022 तक, यूएई पिछले 50 वर्षों में अपनी उल्लेखनीय यात्रा का जश्न मनाएगा और अगले 50 की तैयारी शुरू करेगा।

उन्होंने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात ने 1971 में महासंघ की घोषणा के बाद से महत्वपूर्ण लक्ष्य हासिल किए हैं। पिछले पांच दशकों में यूएई का विकास अद्भुत रहा है और दुनिया भर में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं के रूप में उभर रहा है।

संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत ने कहा कि, यूएई ने अपने गठन के बाद से प्रभावशाली आर्थिक और नागरिक क्रांतियां देखी हैं, जिसने देश को क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रमुख पर्यटन स्थलों और निवेश केंद्र के रूप में स्थापित किया है।

Click on Full Video of Media briefing

 UAE का स्वर्ण जयंती समारोह : भारत में यूएई के राजदूत Dr Ahmad Albanna की पत्रकारों के साथ बातचीत

उन्होंने कहा कि यूएई के दूरदर्शी नेतृत्व ने नागरिकों के सामाजिक उत्थान, आर्थिक विकास, प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष और शिक्षा क्षेत्रों में प्रगति के मामले में एक महत्वपूर्ण मकाम हासिल किया है। उन्होंने कहा कि, अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी (एडीएनओसी) की स्थापना, अबू धाबी फंड फॉर डेवलपमेंट (एडीएफडी) की स्थापना। नए दुबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन,  हैप्पीनेस मंत्रालय की स्थापना, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस रणनीति की शुरुआत, एक्सपो 2020 की मेजबानी, पिछले दशकों में यूएई की प्रमुख उपलब्धियां हैं।

यूएई के राजदूत ने कहा कि, यूएई विशेष रूप से वैश्विक वैज्ञानिक अनुसंधान और अंतरिक्ष अन्वेषण के क्षेत्र में उपलब्धियाँ हासिल कर रहा है। संयुक्त अरब अमीरात ने मानव जाति की सेवा में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का उपयोग करने में उत्कृष्टता हासिल की है। संयुक्त अरब अमीरात अंतरिक्ष एजेंसी का प्रक्षेपण और मंगल ग्रह पर पहला अरब अंतरिक्ष यान भेजना इस क्षेत्र में प्रमुख उपलब्धियां हैं।

उन्होंने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात में महिलाओं की स्थिति 1971 में यूएई की स्थापना के बाद से देश के विकास के समानांतर फली-फूली है। यूएई में यह स्पष्ट है कि महिलाएं आज यूएई के कार्यबल का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और देश के विकास में सक्रिय रूप से योगदान करती हैं। उन्होंने यह भी कहा कि संयुक्त अरब अमीरात के संघीय राष्ट्रीय परिषद मामलों के राज्य मंत्रालय (एमएफएनसीए) के आंकड़ों के अनुसार, राजनयिक सेवा और सरकारी पदों पर महिलाओं की संख्या यूएई की सिविल सेवा का 30 प्रतिशत है, जिसमें विदेश में राजनयिक पोस्टिंग शामिल है और कुल 66 सरकारी क्षेत्र के प्रतिशत का प्रतिनिधित्व महिलाओं द्वारा किया जाता है।

राजदूत अल्बन्ना ने दुबई में चल रहे एक्सपो 20202 के बारे में भी मीडियाकर्मियों को जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भारत को एक्सपो 2020 में एक स्थायी प्रदर्शनी स्थल आवंटित किया गया था। उन्होंने कहा कि कई देशों ने एक्सपो स्थल पर अपने राष्ट्रीय दिवस आयोजित किए हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि दुबई पुलिस बैंड और भारतीय प्रवासी समूहों ने एक्सपो 2020 में दीपावली पर एक विशेष प्रस्तुति दी।

उन्होंने कहा कि 1 अक्टूबर को जनता के लिए खोले जाने के बाद से अब तक एक्सपो 2020 में 40 लाख से अधिक लोग आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि वर्चुअल विज़िट की संख्या के संदर्भ में, आंकड़े बताते हैं कि एक्सपो की ऑनलाइन झलक देखने वालों की संख्या अब तक 22 लाख तक पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि एक्सपो ने अब तक संयुक्त अरब अमीरात के कई स्कूलों के 200,000 से अधिक छात्रों को आकर्षित किया है।

उन्होंने कहा कि एक्सपो के इतिहास में पहली बार एक्सपो 2020 विश्व शतरंज चैंपियनशिप की मेजबानी करेगा। उन्होंने कहा कि 24 नवंबर से शुरू होकर 16 दिसंबर तक दुबई प्रदर्शनी हॉल के आगंतुक दो विश्व स्तरीय खिलाड़ियों को आमने-सामने देख पाएंगे। उन्होंने कहा कि नॉर्वे के मैग्नस कार्लसन और रूस के इयान नेपोम्नियाचची इस सप्ताह 2.25 मिलियन डॉलर के पुरस्कार के लिए प्रतियोगिताका आग़ाज़ करेंगे।

राजदूत ने कहा कि यूएई ने एक्सपो 2020 की थीम के रूप में "कनेक्टिंग माइंड्स, क्रिएटिंग द फ्यूचर" को तीन उप-विषयों - अवसर, गतिशीलता और स्थिरता के साथ चुना है। उन्होंने कहा कि 'अवसर' विषय का उद्देश्य सामाजिक समस्याओं के समाधान पर ध्यान देना, गतिशीलता का अर्थ डिजिटल कनेक्टिविटी के माध्यम से नई सीमाओं का पता लगाने के रास्ते खोलना और तीसरी थीम स्थिरता के तहत पृथ्वी को संरक्षित करने के प्रयास करने के लिए भोजन, पानी और स्वच्छ नवीकरणीय ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोतों पर विचार करना है।

0 comments

Leave a Reply