केजरीवाल का ऐलान- रेलवे लाइन के किनारे बसे 48000 झुग्‍गी वालों को देंगे पक्‍का घर

 

नई दिल्‍ली। मुंबई में कंगना राणावत का दफ्तर गिराए जाने को लेकर मीडिया हल्ला मचाए हुए है, लेकिन दिल्‍ली के 48000 परिवारों का आशियाना उजाड़े जाने पर चुप्पी साधे हुए है। इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल झुग्गी झोंपड़ी में रहने वालों के लिए बड़ी राहत लेकर आ रहे हैं। उन्‍होंने गरीब बेघर लोगों के लिए बड़ा ऐलान किया है। सीएम ने कहा की मैं रेलवे ट्रैक के किनारे झुग्‍गियों में रहने वाले 48000 लोगों को पक्‍का घर दूंगा।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने रेलवे ट्रैक के किनारे बसी झुग्‍गियों को हटाने का निर्देश दिया था जिसके बाद से इस पर दिल्‍ली में जमकर राजनीति हो रही है। वहीं रेलवे ने कुछ दिनों पहले बाहरी दिल्‍ली के इलाके में कुछ झुग्‍गियों को हटाया था।

कांग्रेस का आरोप
प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष जयकिशन ने बयान जारी कर कहा है कि झुग्गी वालों को उजाड़ना केंद्र की मोदी सरकार व दिल्ली की केजरीवाल सरकार की नाकामी है। उन्होंने कहा कि महंगाई चरम पर है और अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो चुकी है, लेकिन जनता को गुमराह करने के लिए केंद्र और दिल्ली सरकार एक-दूसरे पर दोष मढ़ने में लगी हुई हैं। अब जब कांग्रेस ने इन झुग्गी वासियों के लिए सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के लिए याचिका दाखिल की है तो अब आप व भाजपा के नेता झुग्गियों को दोबारा बसाने की बात कर रहे हैं।

बीजेपी की सफाई
इधर, दिल्ली भाजपा ने झुग्गी वासियों के पुर्नवास न करने को लेकर केजरीवाल सरकार पर निशाना साधा है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि झुग्गी वासियों को लेकर केजरीवाल सरकार मगरमच्छ के आंसू बहा रही है। जबकि केजरीवाल सरकार ने ही यमुना खादर में 200 झुग्गियों को बिना नोटिस के तोड़ दिया। इससे हजार लोग अचानक ही बेघर हो गए। गुप्ता ने कहा कि इस प्रकरण से केजरीवाल सरकार का झुग्गी वासियों को लेकर दोहरा रवैया सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने झुग्गी वालों को सिर्फ अपने वोट बैंक के तौर पर उपयोग किया है और अब झुग्गी वालों का घर उजाड़ने में लगी हुई है। 50 हजार फ्लैट झुग्गी वालों के लिए बने हुए हैं वह भी आज तक उन्हें आवंटित नहीं किए गए। इतना ही नहीं गरीबों को आवास मिल सके, इसके लिए प्रधानमंत्री आवास योजना भी लागू नहीं की क्योंकि अगर झुग्गी वालों को उनका घर मिल जाएगा तो केजरीवाल की राजनीति खत्म हो जाएगी।

 

0 comments

Leave a Reply