यहाँ अब मेरे राज़दान और भी है

अल्लामा इक़बाल

Asia Times News Desk

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तेहाँ और भी हैं।।

ताही ज़िंदगी से नहीं यह फिज़ाएँ
यहाँ सैंकड़ों कारवाँ और भी हैं।।

अगर खो गया एक नशेमन तो किया गम
मक़ामात-ऐ-आह-ओ-फ़िगन और भी हैं।।

तू शाहीन है , परवाज़ है काम तेरा
तेरे सामने आसमान और भी हैं।।

इसे रोज़-ओ-शब में उलझ कर न रह जा
कह तेरे ज़मान-ओ-मकाँ और भी हैं।।

(अल्लामा इक़बाल)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *