तप्पा उजियार को मिला मिला IAS: फुरकान अख्तर ने परीक्षा में 444 वीं रैंक हासिल कर तप्पा उजियार का नाम किया रोशन

एशिया टाइम्स के लिए ज़फीर अली करखी की रिपोर्ट

Ashraf Ali Bastavi

50 साल बाद तप्पा उजियार को मिला आई ए एस

बिना कोचिंग दुसरे प्रयास में की सफलता हासिल

फुरकान अख्तर बने युवा छात्र के रोल मॉडल

मदरसे से शुरू की प्राथमिक शिक्षा

शुरू से रहे टॉपर

सन्तकबीरनगर(एशिया टाइम्स) फुरकान अख्तर ने IASकी परीक्षा में 444 वीं रैंक हासिल कर तप्पा उजियार व् जनपद का नाम देश प्रदेश में रोशन किया है।छात्रों और नौजवानों के लिए रोल मॉडल बन गए हैं।एक गरीब किसान मुश्ताक अहमद निवासी बिगरा अव्वल ब्लॉक सेमारियावां के घर 1989 में पैदा हुए फुरकान अहमद बचपन से ही विलक्षण प्रतिभा के धनी रहे,एक मेधावी छात्र के रूप में अपनी पहचान स्कूल कालेज व् क्षेत्र में बनाई।टॉपर स्टूडेंट रहे फुरकान अख्तर से उनके परिवार के सदस्यों उनके उस्ताद को बड़ी उम्मीदें रही है हैं।हमेशा इनकी कामयाबी व् सफलता के लिए दुआ के कलमात निकलते रहे।

जिसे फुरकान अख्तर ने 28 साल में अपनी कड़ी मेहनत मुशक्कत लगन के बाद बिना कोचिंग के दुसरे ही प्रयास में सच साबित कर दिखया।

सेमरियावां ब्लॉक थाना दुधारा जनपद सन्त कबीरनगर का एक छोटा सा गांव है बिगरा अव्वल।यह जमीदारों का गांव है।गांव में हिन्दू मुस्लिम की मिली जुली आबादी है।एक छोटे से गांव में जन्मे फुरकान अख्तर शिक्षा की बदौलत देश की सबसे सम्मानित पोस्ट आईएएस पाने में सफल रहे।

फुरकान अख्तर की परवरिश, शिक्षा दीक्षा में अहम भूमिका इनके मामू मो नाजिम खान पूर्व ब्लॉक प्रमुख व् पूर्व जिला अध्यक्ष कांग्रेस कमेटी सन्त कबीरनगर की रही है।मो नाज़िम खान ने फुरकान की प्रतिभा को पहचान कर शिक्षा हासिल करने में आ रही हर बाधा को दूर करने का पूरा प्रयास व् सहयोग आजतक करते रहे।

फुरकान अख्तर ने अपनी शिक्षा किसी किसी प्राइवेट स्कूल से नही हासिल की।बल्कि इलाके के हर बच्चों की तरह गांव के नजदीक स्थित मदरसा मजहरुल उलूम बिगरामीर के मकतब क्लास में दाखिला लेकर कक्षा 5 की परीक्षा उत्तीर्ण की।कक्षा 8 तक की परीक्षा जूनियर हाई स्कूल सेमारियावां से हासिल की।जहां से अब्दुल खालिक साहब कड़जा ने तालीम हासिल कर 50 साल पूर्व तप्पा उजियार के पहले आईएएस बने थे।

नेशनल इंटर कालेज मुंडा डीहा बेग से हाई स्कूल तथा इंटर मीडिएट की परीक्षा खैर इंटर कालेज बस्ती से हासिल की।सम्मानजनक परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद हिंदुस्तान की नबंवर वन यूनिवर्सिटी अलीगढ़ मुस्लिम विश्व विद्यालय से बी एस सी और एम् सी ए किया ।शिक्षा पूरी करते ही देश की प्रतिष्ठित tcs नोएडा में सिस्टम इंजीनयर पड़ जॉब मिल गई।

 

आईएएस बनने का सपना बचपन से ही सजोये फुरकान अख्तर ने जॉब करते हुए बिना कोचिंग प्रयास जारी रखा और देश की प्रतिष्ठित आईएएस में सफलता हासिल कर अपने माता पिता मामू और शिक्षको मान सम्मान बढ़ाया।

 

सेमारियावां स्थित 1932 से कायम जूनियर हाई स्कूल के रिटायर शिक्षक अब्दुस्सलाम सिद्दीकी और अबू बकर साहब के खास शागिर्द रहे फुरकान अहमद से बड़ी उम्मीदें थी।यह लोग बार बार कह रहे थे की यह लड़का आगे चलकर इलाके का नाम रोशन करेगा,जिसे साबित कर दिखया फुरकान ने।

नेशनल इंटर कालेज के प्रिंसिपल मुजिबुल्लाह पूर्व प्रिंसिपल अबू बकर ,इनमूल्लाह साहब की भी पैनी नजर ने प्रतिभा के धनी फुरकान की प्रतिभा को कालेज में पहचाना और हमेशा आगे बढ़ो हेतु प्रेरित करते रहे।

मामू नाजिम खान के घर लगी भीड़।

27 अप्रैल की शाम तप्पा उजियार के हर गांव में खुशियां लेकर आया।क्षेत्र में मानों ईद का चाँद नजर आ गया हो।हर तरफ खुशियां मनाई गई।फुरकान अहमद के मामू मो नाजिम खान के सेमारियावां स्थित मकान पर देर रात तक बधाई मुबारकबाद देने का सिलसिला जारी रहा।लोग ख़ुशी में एक दुसरे को मिठाई खिलाते रहे।

फुरकान अख्तर की इस बड़ी कामयाबी पर मो नाजिम खान ,जफीर अली करखी,मुनीरूल हसन चौधरी ,मो अहमद जिला पंचायत सदस्य ,एजाज अहमद उर्फ़ राजू प्रधान,मेराजुलहक, रिज्वानुलहक,डॉ शकील खान,फैजान अहमद,वसी अहमद,मो आसिम खान,शमशेर अहमद प्रबन्धक,बेलाल उमर, फ़ुजैल नदवी,मकसूद नदवी,निसार नदवी,मुबारक हुसेन मुजीबुर्रहमान कासमी,अनवार आलम चौधरी,आदि ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए फुरकान अहमद के साथ उनके माता पिता और शिक्षकों को बधाई दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *