शर्मनाक : केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा की ट्विटर पर हुई खिचाई,मुशावरत के प्रेसिडेंट नवेद हामिद ने प्रधानमंत्री से  जयंत सिन्हा को तुरंत बर्खास्त करने का किया मुतालबा

Ashraf Ali Bastavi

नई दिल्ली : पिछले साल 29 जून को रामगढ़ के मांस कारोबारी अलीमुद्दीन अंसारी की कथित तौर पर गोमांस ले जाने के शक में पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी थी.

मार्च महीने में स्थानीय अदालत ने मामले के 11 आरोपी ‘गो-रक्षकों’ को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सज़ा सुनाई थी. 30 जून को इनमें से 8 दोषियों को झारखंड हाईकोर्ट से ज़मानत मिली.

बुधवार को जब ये आरोपी हजारीबाग की जय प्रकाश नारायण सेंट्रल जेल से बाहर निकले तो इनका स्वागत करने केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा पहुंचे.

आल इंडिया मुस्लिम मजलिसे मुशावरत के प्रेसिडेंट नवेद हामिद ने प्रधानमंत्री से  जयंत सिन्हा को तुरंत बर्खास्त करने का मुतालबा किया है ,उन्हों ने अपने tweet में कहा है इस से पता चलता है कि  गो-रक्षकों को सरकार का खुला संरक्षण हासिल है .

Check out @navaidhamid’s Tweet: 

https://twitter.com/navaidhamid/status/1015230719277187073?s=08
@narendramodi minister @jayantsinha’s felicitation of group of Jharkhand lynching convicts aftr they got bail proves tht cow vigilants hs govt’s open patronage. If tht is not so, PM shld immediately expel minister who hd brazenly insulted d same constitution on which he was sworn https://t.co/ZM2rJzjVPb
जयंत हजारीबाग से सांसद हैं. इन अभियुक्तों में एक स्थानीय भाजपा नेता नित्यानंद महतो समेत अन्य सात लोग भी शामिल थे, जिन्हें जयंत ने फूलमालाएं और मिठाई दीं, साथ ही ऊपरी अदालत में उनका केस लड़ने का भी आश्वासन दिया.

इससे पहले 30 जून को  ज़मानत मिलने पर भाजपा के पूर्व विधायक शंकर लाल चौधरी ने खुशी जताते हुए अभियुक्तों के परिजनों को मिठाई बांटी थी और कहा था कि इन सभी लोगों को जमानत मिल जाने के बाद शहर में विजय जुलूस निकाला जाएगा.

इस मामले सबसे शर्मनाक भूमिका जयंत सिन्हा की ही रही.

मालूम हो कि इन अभियुक्तों को स्थानीय कोर्ट से उम्रकैद की सज़ा मिलने के बाद स्थानीय भाजपा नेता इनके समर्थन में खुलकर सामने आये थे और भाजपा के कई स्थानीय नेताओं और संगठनों ने आंदोलन छेड़ दिया था.

इन नेताओं और संगठनों का कहना था कि अलीमुद्दीन अंसारी हत्याकांड की जांच सीबीआई या एनएआई से कराई जाए क्योंकि पुलिस की पूरी कार्रवाई एकतरफा है.

Hello , can you clarify if you did this? Whole country is going through a deadly wave of lynchings & you, as a union minister is welcoming the people who were convicted of LYNCHING, with garlands and sweets?!! Unbelievable and horrendous if true!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *