अपने पिछड़ेपन के लिये मशहूर मेवात में बदलाव की एक किरण

Positive 2 की #KnowAboutMuslimAreas सीरीज़ की चौथी कड़ी : मेवात

Ansar Imran SR

मेवात:- मेव समुदाय के बारे में तो आप लोगों ने ही सुना ही होगा| अक्सर हम इस ग़लतफहमी में रहते हैं कि मेव समुदाय सिर्फ हरियाणा के मेवात जो अब नुहं जिला बन गया है में रहते है मगर ये सही नहीं है| मेवात एक रीजन का नाम है जो 3 राज्यों उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान में फैला हुआ है|

मेवात

इस समुदाय में तक़रीबन 90 फीसद से भी ज्यादा आबादी मुस्लिम है| लगभग हर मेवाती के पास थोड़ी बहुत जमीन होती ही है| इन लोग का प्रमुख काम खेतीबाड़ी और दूध का काम है|

लगभग हर मेवाती के घर में दुधारू पशु मिल जायेंगे

आप लोगों ने अक्सर सुना होगा के मेवाती लोग बहुत अख्खड़ किसम के होते है हकीकत भी येही है| ये लोग ज्यादा पढ़ते लिखते नहीं है और बच्चीयों को तो बिलकुल भी नहीं पढ़ाते है| एक वक्त तक ये बात सही भी थी मगर धीरे धीरे इन लोगों में भी एक बदलाव की लहर नई पीढ़ी में आ रही है|

पुराने जमाने का मेवाती स्टाइल में बना एक घर

इस समुदाय के साथ एक बड़ा मसला ये भी रहा है कि मेवात को हमेशा सरकारो ने नजरअंदाज किया है जिसका खामयाजा इस पुरे समुदाय को आज तक भुगतना पड़ रहा है|

ऐसा नहीं है की अगर कोई समुदाय पिछड़ा हुआ है तो उसमें बदलाव की लहर नहीं आती है|

इस समुदाय से भी चार पांच पढ़े लिखे लड़कों ने एक सराहनीय कदम उठाया है| इन लड़कों ने अपने इस समुदाय को शिक्षित करने का प्रण किया है| जिसमें फ़िलहाल अभी ये लोग मेवात के शिकरावा में दो अलग अलग जगह पर सेंटर की जगह ले कर “इकरा लर्निंग सेंटर” चलाते हैं|

पूरी विडियो यहाँ देखें:

जिसमें प्राइमरी से इन्टर तक गरीबों के बच्चे पढ़ने आते है| बेलौस हो कर ये नौजवान रोजाना अपने तक़रीबन 3 घंटे इन बच्चों को पढ़ाते है इसी उम्मीद में कि हमारा आने वाला भविष्य तरक्की करेगा|

इकरा लर्निंग सेंटर में पढ़ते हुये मेवाती बच्चे

किसी की भी माली सहायता के बिना ये लड़के अपनी पॉकेट से पैसे लगा कर इन बच्चों का भविष्य संवार रहें है| अपने तकलीफ़ के लिए हमेशा सरकारों को कोसने से कुछ नहीं होगा अगर हम लोग सच में अपने समुदाय के लिए फिकरमंद हैं तो ऐसे नौजवानों की मदद करनी चाहये…

बाकी सब खैरियत है!!!

ANSAR IMRAN SR

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *