बाबरी मस्जिद विवाद :CJI ने कहा आस्था नहीं, जमीन का केस, धर्मग्रंथ न सुनाएं, सबूत दें

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि उन्हें कुछ पुख्ता सबूत चाहिए. हमें नक्शा दिखाएं या कुछ ऐसा दिखाइए कि जिससे पता लग सके कि आप जिस स्थान का दावा कर रहे हैं वो वही जगह है. चीफ जस्टिस ने कहा कि धर्मग्रंथों का इस वक्त मामले से लेना-देना नहीं है क्योंकि सवाल आस्था का नहीं बल्कि जमीन का है.

Awais Ahmad

अयोध्या विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज नोवें दिन की सुनवाई हुई। आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई की शुरुआत रामलला के वकील ने की और अपनी जिरह पूरी की उसके बाद जन्म स्थान पुनरुद्धार समिति के वकील पी एन मिश्रा और हिन्दू महासभा कि तरफ से पूरी तैयारी नहीं होने कि बात पर सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें बाद में मौका देने कि बात कोर्ट ने कही, हिन्दू महासभा की तरफ से VN सिंहा दलील दी रहे थे,जिसके बाद गोपाल सिंह विशारद के वकील रणजीत कुमार दलील शुरू की।

रामलला के वकील सीएस वैद्यनाथन ने कहा कि अगर जमीन हमारी है और किसी ओर के द्वारा गैरकानूनी तौर पर कोई ढांचा खड़ा कर लिया जाता है तो जमीन उनकी नहीं होगी. अगर वहां पर मंदिर था,लोग पूजा भी कर रहे थे तो उन्हें और कुछ साबित करने की जरूरत नहीं है.

रामलला के वकील ने कहा कि एक मंदिर हमेशा मंदिर ही रहता है, संपत्ति को आप ट्रांसफर नहीं कर सकते हैं. मूर्ति किसी की संपत्ति नहीं है, मूर्ति ही देवता हैं.

इस पर जस्टिस बोबड़े ने कहा कि आपके तर्क तो इस प्रकार हैं कि मूर्ति के स्वामित्व वाली संपत्ति अभेद है. अगर कोई अन्य व्यक्ति जो संपत्ति पर दावा करता है, वह इसे कब्जे में नहीं रख सकता है. ऐसे में संपत्ति ट्रासफंर वाली चीज नहीं है.

रामलला विराजमान की तरफ से वकील सीएस. वैद्यनाथन ने चीफ जस्टिस की बेंच के सामने अपने तर्क रखे. इस दौरान उन्होंने कहा कि रामलला नाबालिग हैं, ऐसे में नाबालिग की संपत्ति को ना तो बेचा जा सकता है और ना ही छीना जा सकता है.

वकील ने अदालत के सामने अपनी दलील रखते हुए कहा कि अगर थोड़ी देर को ये मान भी लिया जाए कि वहां कोई मंदिर नहीं, कोई देवता नहीं थे, फिर भी लोगों का विश्वास है कि राम जन्मभूमि पर ही श्रीराम का जन्म हुआ था. ऐसे में वहां पर मूर्ति रखना उस स्थान को पवित्रता प्रदान करता है.

सुप्रीम कोर्ट में रामलला के वकील की तरफ से स्कन्द पुराण और अन्य पुराणों का जिक्र किया गया और रामजन्मभूमि के सबूतों को सामने रखा गया. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने वकील से पूछा कि क्या आपको पता है कि ये कब लिखा गया था. जिसपर वकील ने बताया कि ये गुप्त वंश के दौरान लिखा गया था.

जस्टिस चंद्रचूड़ ने इस दौरान कहा कि अगर आप अपनी जिरह के लिए पौराणिक तथ्यों का जिक्र कर रहे हैं, तो इस बात का भी ध्यान रखें कि मंदिर की मौजूदगी के लिए आपके पास कुछ अन्य सबूत भी हों. जस्टिस भूषण ने भी इस दौरान कहा कि आपको इन पुराणों के समय के बारे में भी बताना होगा क्योंकि आप उस जगह के लिए इनपर ही निर्भर हैं.

इस बीच जस्टिस राजीव धवन ने अदालत को बताया कि अयोध्या के पास पहले घाघर नदी थी, जिसे सरयू की सहायक नदी माना गया. इसको लेकर दो बार रुख बदला गया, ऐसे में अब बार-बार चर्चा नहीं कर सकते हैं.

अदालत में रामलला विराजमान के वकील की तरफ से बहस पूरी हो गई है. सुप्रीम कोर्ट में अब रामजन्म स्थान पुनरुद्धार समिति के वकील पीएन मिश्रा अपनी दलील रख रहे हैं. उन्होंने भी अपने दलील के दौरान स्कन्द पुराण का जिक्र किया और बताया कि सरयू नदी में स्नान के बाद लोग जन्मस्थान का दर्शन करने जाते थे

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि उन्हें कुछ पुख्ता सबूत चाहिए. हमें नक्शा दिखाएं या कुछ ऐसा दिखाइए कि जिससे पता लग सके कि आप जिस स्थान का दावा कर रहे हैं वो वही जगह है. चीफ जस्टिस ने कहा कि धर्मग्रंथों का इस वक्त मामले से लेना-देना नहीं है क्योंकि सवाल आस्था का नहीं बल्कि जमीन का है.

रामजन्म स्थान पुनरुद्धार समिति के वकील पीएन मिश्रा ने आइन-ए-अकबरी की बातों को बताया और कहा कि उन्होंने कहीं भी ये नहीं बताया कि बाबर ने मस्जिद बनाई थी. इस पर जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि मस्जिद किसने बनाई ये मायने नहीं रखता है, चाहे वो बाबर हो या अकबर, सवाल ये है कि वहां पर मस्जिद थी या नहीं.

इसके बाद चीफ जस्टिस ने कहा कि आप अपने सभी नोट्स को इकट्ठा करें और उन डॉक्यूमेंट्स को हमें दें जिनका आप जिक्र कर रहे हैं. इसके बाद पीएन मिश्रा ने कहा कि वह परसों अपनी दलील रखना चाहेंगे.

पीएन मिश्रा के बाद हिंदू महासभा के वकील अपना पक्ष रख रहे हैं. उन्होंने अपनी दलील में जिक्र किया कि जमीन का मालिकाना हक सरकार के पास है. जिसपर जस्टिस बोबड़े ने कहा कि जमीन का कंट्रोल सरकार के पास नहीं है. हिंदू महासभा के वकील ने कहा कि वह जिरह के लिए तैयार नहीं हैं.

इस पर चीफ जस्टिस नाराज हुए और पूछा कि आप तैयार क्यों नहीं हैं? वकील ने कहा कि उन्हें पता नहीं था कि आज उनकी बारी आएगी, इसके बाद चीफ जस्टिस ने किसी ओर से अपना पक्ष रखने को कहा. हिंदू महासभा के बाद गोपाल सिंह विशारद की तरफ से वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार अपना पक्ष रख रहे हैं.

गोपाल सिंह विशारद के बेटे ने कहा कि 1950 में मेरे पिताजी ने मामले में याचिका दायर की थी. बीच में टोकते हुए चीफ जस्टिस ने कहा कि आपने अनुवाद ठीक से नहीं किया है, वकील की ओर से जवाब दिया गया कि कुछ सबूत हिंदी में भी दिए गए हैं. सुप्रीम कोर्ट में कल अब सुनवाई होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *