जन्तर मंतर पर रोज़ धरना प्रदर्शन करने वालो कभी एक धरना ‘जन्तर मंतर’ की उपेक्षा पर भी तो करलो

फोटो मोहसिन जावेद

Asia Times Desk

दिल्ली :  जन्तर मन्तर एक खगोलीय वेधशाला है। अन्य चार जन्तर मन्तर सहित इसका निर्माण महाराजा जयसिंह द्वितीय ने 1724 में करवाया था। यह इमारत प्राचीन भारत की वैज्ञानिक उन्नति की मिसाल है। जय सिंह ने ऐसी वेधशालाओं का निर्माण जयपुरउज्जैनमथुरा और वाराणसी में भी किया था। दिल्ली का जंतर-मंतर समरकंदकी वेधशाला से प्रेरित है।

मोहम्मद शाह के शासन काल में हिन्दु और मुस्लिम खगोलशास्त्रियों में ग्रहों की स्थिति को लेकर बहस छिड़ गई थी। इसे खत्म करने के लिए सवाई जय सिंह ने जंतर-मंतर का निर्माण करवाया। ग्रहों की गति नापने के लिए यहां विभिन्न प्रकार के उपकरण लगाए गए हैं। सम्राट यंत्र सूर्य की सहायता से वक्त और ग्रहों की स्थिति की जानकारी देता है। मिस्र यंत्र वर्ष के सबसे छोटे ओर सबसे बड़े दिन को नाप सकता है। राम यंत्र और जय प्रकाश यंत्र खगोलीय पिंडों की गति के बारे में बताता है।

जानकारी विकिपीडिया से ली गई है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *