26/07/2017


अब नहीं पड़ेगी कॉर्निया ट्रांसप्लांट की जरूरत, ईजाद किया गया नया तरीका

dainikbhaskar.com

शिकागो (अमेरिका)।कॉर्निया की समस्या से जूझ रहे पीड़ितों के लिए अच्छी खबर है। अब उन्हें कॉर्निया के प्रत्यारोपण से मुक्ति मिल सकती है। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने आंखों की बीमारी से निपटने का नया और आसान तरीका ईजाद करने का दावा किया है। इसे डेसीमेट स्ट्रिपिंग का नाम दिया गया है।
शिकागो यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक डॉ. कैथरीन कॉल्बी के नेतृत्व में शोधकर्ताओं के एक दल ने यह उल्लेखनीय सफलता हासिल की है। उन्होंने बताया कि कॉर्निया के अंदर से कोशिका के कुछ वर्ग मिलीमीटर हिस्से को हटाने से ट्रांसप्लांट के झंझट से मुक्ति मिल सकती है। प्रभावित हिस्से से कोशिका के सिर्फ एक परत को हटाने से कॉर्निया सही तरीके से काम करने लगता है। इसकी मदद से फुक्स एंडोथीलियल डायस्ट्रॉफी (एफईडी) के हर चार पीड़ितों में से तीन की आंखों की रोशनी लौटने का दावा किया गया है।
एफईडी के पीड़ितों की कॉर्निया में पानी भर जाता है। ऐसा पंपिंग सेल्स की कार्यप्रणाली में गड़बड़ी आने की वजह से होता है। खराब सेल्स को निकालने पर स्वस्थ सेल उनका स्थान ले लेते हैं। ये सेल्स पंपिंग सेल्स की भांति काम करने लगते हैं। ऐसे में कॉर्निया के ऊपरी हिस्से में तरल पदार्थ का जमाव नहीं होता है। एफईडी के चलते पीड़ित स्पष्ट नहीं देख पाता है। समय पर इलाज नहीं होने पर पीड़ित व्यक्ति दृष्टिहीनता का भी शिकार हो सकते हैं।
शोधकर्ताओं ने 51 से 91 साल के 11 मरीजों की आंखों का इलाज इस पद्धति से किया। और ये सभी अब अच्छी तरह देख पा रहे हैं। छह महीने बाद ही दस लोगों की दृष्टि में पूरी तरह सुधार हो गया था। वहीं बाकी की रोशनी में 20 फीसदी सुधार आया था। इस प्रयोग को जर्नल कॉर्निया ने भी प्रकाशित किया है। प्रयोग की सफलता से उत्साहित कैथरीन कॉल्बी बताती हैं ये प्रक्रिया आसान है साथ ही क्रांतिकारी भी।
बढ़ रहे हैं 50 हजार दृष्टिहीनता के मरीज
देश में हर साल एक लाख लोग दृष्टिहीनता की गिरफ्त में रहे हैं। लेकिन साल में आधे ही लोग नेत्रदान कर पा रहे हैं। यानी हर साल 50 हजार पीड़ितों का बैकलॉग बढ़ता जा रहा है। भारत में कॉर्नियल ब्लाइंडनेस की समस्या काफी बड़ी है। नेत्रदान ही इस समस्या को दूर कर सकता इस ऑपरेशन में करीब 50 प्रतिशत सफलता मिल पाती है। यानी एक लाख दृष्टिहीनों में ट्रांसप्लांट करना है तो कम से कम दो लाख कॉर्निया डोनेट करवाने होंगे।





अन्य समाचार

2
3
4