25/09/2017


देश के युवाओं को तकनीकी शिक्षा से लैस करना समय की मुख्य जरूरत! मेहदी हसन एैनी क़ासमी

 

_____________________
देवबंद (5 जनवरी)इस वक्त पूरी दुनिया में ग्लोबलाईज़ेशन का बोलबाला है,
और हर देश व समूदाय अपनी बातों को पहुंचाने के लिये आधुनिक संसाधनों का भरपूर उपयोग कर रहे हैं।
ऐसे में मुस्लिम समुदाय के नौनिहालों को धर्म की बुनियादी शिक्षा के साथ साथ टेक्निकल शिक्षा से लैस करना समय की पुकार है।
मरहबा कोचिंग सेंटर देवबंद के पहले बेसिक बैच के पूरा होने पर आयोजित किए गए पुरस्कार कार्यक्रम में जस्टिस एंड डेवलपमेंट फ्रंट के राष्ट्रीय संयोजक और मरहबा  कोचिंग सेंटर व संस्थान के संरक्षक मेहदी हसन एैनी कासमी ने अपने अध्यक्षीय भाषण ये विचार व्यक्त 
 किये।
उन्होंने संस्थान के प्रबंधक मौलाना मेहताब आलम कासमी और स्टाफ के अन्य जिम्मेदारों को बधाई देते हुए कहा कि मरहबा कोचिंग सेंटर व  कंप्यूटर संस्थान मदरसों व स्कूल के नादार छात्रों को जिस बड़े पैमाने पर समकालीन आधुनिक आवश्यकताओं  के मुताबिक़ तैयार कर रहा है।
 यह कदम  प्रशंसा और तारीफ़  का सार्थक है ..
उन्होंने कहा कि सांप्रदायिक ताकतें एक नजीब अहमद को गुम करवाकर यह समज रहे हैं कि अब मुस्लिम समुदाय बैकफुट पर आ जाएगा।
ऐसा बिल्कुल नहीं होगा.अब  हर घर से एक नजीब बनाने की कोशिश की जायेगी.
 मरहबा कोचिंग सेंटर की मौजूदा प्रयास इसी दिशा में पहला कदम है।
उन्होंने कहा कि मुस्लिम बच्चों को हर क्षेत्र में अपने टेलैंट और क्षमता के बलबूते आगे आना होगा।
उन्होंने कहा कि शैक्षिक आरक्षण की मांग तो सही लेकिन इसी के सहारे बैठ जाना और हार स्वीकार कर लेना एक तरह की कायरता है।
इसके लिए देश के नेताओं और राहनुमाओं को आगे आना होगा और घर घर से बच्चों का हाथ पकड़ पकड़ कर शिक्षा के हथियार से लैस करना होगा।
प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता और अमन वेल्फियर सोसायटी के संस्थापक जरार्र बेग ने इस अवसर पर संस्थान के छात्रों को प्रोत्साहित करते हुए उन्हें आगे बढ़ाने के लिए हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया।
उन्होंने कहा कि आज मुस्लिम समाज जिस तरह से पिछड़ेपन का शिकार है,उससे  निपटने के लिए समाज के जिम्मेदार लोगों को आगे आकर अपने बच्चों के उज्जवल भविष्य के बारे में सोचना होगा।
अमन वेल्फेयर सोसायटी के अध्यक्ष मोहम्मद इस्लाम साहब ने संस्थान के पहले बैच में सफल होने वाले छात्रों को नकद पुरस्कार से सम्मानित किया और उन्हें आशीर्वाद दिया।
इस प्रतिष्ठित समारोह को संबोधित करते हुए युवा सामाजिक कार्यकर्ता अशफाक उल्लाह ख़ान ने कहा कि बच्चों को पहले एक लक्ष्य और टारगेट तय करना होगा.फर बाद में  उसी के अनुसार आगे बढ़ने की कोशिश करनी होगी।
कम्पटीशन के इस दौर में जब तक टेलैंट का खुलकर इज़हार नहीं किया जाएगा तब तक आगे बढ़ने के अवसर नहीं मिलेंगे।
इस मौके पर सेंटर के जिम्मेदार हस्सान वली ने सेंटर के उद्देश्य बतलाये।
संस्थान के प्रबंधक महताब आलम कासमी ने सभी मेहमानों का शुक्रिया अदा  करते हुए कहा कि मरहबा कोचिंग एण्ड कम्प्यूटर सेंटर के अलग बैच में इस समय लगभग
80  छात्र पढ़ रहे हैं।
जिनमें से बहूत सो को मुफ्त शिक्षा दी जाती है।
उनमें दारुल और वक़्फ़  दारुल सहित देवबंद के विभिन्न मदरसों और स्कूलों के नादार व मोहताज छात्र हैं।
समय-समय पर केंद्र ही ओर से उनके लिए दवा आदि की व्यवस्था भी की जाती है।
उन्होंने वरिष्ठ राईटर मेहदी हसन एैनी कासमी और सामाजिक कार्यकर्ता जर्रार बैग से सेंटर की संरक्षता और मार्गदर्शन का अनुरोध किया।
अंत में बेसिक कोर्स पूरा करने वाले पांच स्कूली छात्रों को संस्थान के सरपरस्त  मेहदी हसन एैनी कासमी के हाथों से ट्राफयों से सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर हस्सान वली, लबीब अहमद, कासिम उस्मानी ,
शम्स तबरेज़ कासमी,
अबरार त्यागी सहित संस्थान का 
पूरा स्टाफ और छात्र मौजूद थे।

 





अन्य समाचार

2
3
4