साम्प्रदायिक दंगों की प्रयोगशाला के लिये मशहूर हो चुका शहर हजारीबाग

Positive 2 की #KnowAboutMuslimAreas सीरीज़ की सातवीं कड़ी: हजारीबाग #Hazaribag

Ansar Imran SR

Positive 2:- नेशनल हाईवे 33 पर मौजूद एक बेहद ही खूबसूरत शहर हजारीबाग…. यह नाम दो पर्शियन शब्दों से बना है जिसका मतलब होता है कि “हजार बागों का शहर”| झारखण्ड में दूसरा सबसे बड़ा coal reserve रखने वाला हजारीबाग जिला 4,313 sq km में फैला हुआ है|

बिहार के साथ सटा हुआ यह जिला लगभग 17 लाख लोगों का घर है जिसमें तक़रीबन 3 लाख आबादी मुस्लिम है|

हजारीबाग ने शिक्षा के क्षेत्र 2001 से 2011 में बहुत शानदार काम किया था जिसकी वजह से इस जिले की साक्षरता दर तक़रीबन 15 फीसद बढ़ कर 70 फीसद को पार कर गयी थी|

हजारीबाग अपनी कुदरती सुन्दरता के लिये भी मशहूर है| खेती यहाँ का मुख्य कारोबार है मगर हजारीबाग के कुल क्षेत्र का 60 फीसद जमीनी एरिया फारेस्ट है तो फारेस्ट भी लोगों की आमदनी का एक महत्वपूर्ण जरिया है|

पूरी विडियो यहाँ देखें:

हाल के दिनों में हजारीबाग साम्प्रदायिक दंगों का गढ़ बन गया है| हाल के दिनों में लोगों के रोजगार और विकास की चिंता छोड़ राजनीतिक पार्टीयाँ हिन्दू मुस्लिम कार्ड खेलने में व्यस्त हैं|

गूगल पर जा कर हजारीबाग सर्च करेंगे तो सिर्फ साम्प्रदायिक हिंसा की वीडियो ही मिलेंगी|

यूँ तो कुदरत ने हजारीबाग को बेइंतेहा तोहफे दिये है मगर टूरिज्म के लिये फेमस होने की जगह यह जिला लोगों की कब्रगाह बनता जा रहा है…

बाकी सब खैरियत है!!!

Ansar Imran SR

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *