एस.आई.ओ के राष्ट्र अधिवेशन में देशभर से हज़ारों युवा जुटे

समाज के नवनिर्माण के लिए छात्रों और युवाओं को आगे आना होगा नहास माला (राष्ट्रीय अध्यक्ष, एस.आई.ओ)

एशिया टाइम्स

नई दिल्ली (एशिया टाइम्स): स्टूडेंट्स इस्लामिक आर्गेनाईजेशन ऑफ़ इंडिया के तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मलेन का उद्घाटन आज अपराह्न झंडारोहन समारोह से शुरू हुआ| एस.आई.ओ मुख्यालय स्थित इस सम्मलेन में देशभर से आए 8000 से अधिक युवा छात्र और कार्यकर्ताओं ने भाग लिया|

उद्घाटन समारोह की शुरुआत करते हुए एस.आई.ओ के महासचिव खलीक़ अहमद ने छात्रों और युवाओं में आत्मसम्मान को जिन्दा रखते हुए देश के नवनिर्माण में योगदान देने की बात रखी साथ ही देश और शिक्षा से जुड़े मुद्दों में संगठन की निर्माणकारी कर्तव्यों को भी सुनिश्चित किया|

जमात इस्लामी हिन्द के अध्यक्ष मौलाना सय्यद जलालउद्दीन उमरी ने मौजूदा राजनीतिक पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा कि आज के राजनैतिक दल देश की युवा पीढ़ी का दुरुपयोग कर न तो उनका विकास कर रही हैं और न ही कोई उज्जवल और सुरक्षित भविष्य को लेकर उनका कोई इरादा नज़र आता है|

इस सत्र में जमात इस्लामी हिन्द के उपाध्यक्ष और एस.आई.ओ के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सय्यद सआदतउल्लाह हुसैनी ने एस.आई.ओ की एक सक्रिय संगठन के रूप में सराहना करते हुए आज के हालात पर जमे रहने की अपील की|

सम्मलेन में शामिल कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दो क्षेत्रों में साथ परिश्रम करने को कहा जिसमे आज के युवाओं के मन में असंतुष्टि होने के साथ साथ एक संघर्ष की भावना भी हो जो उन्हें उस कार्य की ओर दिशा दे जिसकी इस देश को ज़रुरत और उम्मीद है|

एस.आई.ओ कोई प्रतिक्रियात्मक संगठन नहीं जो किसी मुद्दे की प्रिक्रिया के बाद अपनी गतिविधियों को अंजाम दे बल्कि एस.आई.ओ एक ऐसा सक्रिय संगठन है जो छात्र मुद्दों को खुद दिशा देने का साहस रखता है|

इस राष्ट्रस्तरीय सम्मलेन में फिलिस्तीन के राजदूत वाय. अल-बतर्की ने फिलिस्तीन के हालात पर चिंता व्यक्त करते हुए इजराइल द्वारा ज़ुल्म और नाइंसाफी को सबके समक्ष रखा| अल-बतर्की के अनुसार संयुक्त राष्ट्र के कितने ही प्रस्तावों के बाद भी वहां के हालात बद से बत्तर नज़र आ रहे हैं| इस मुद्दे पर फिलिस्तीनी राजदूत ने भारत सरकार के दृष्टिकोण की सराहना करते हुए देश के नागरिको का फिलिस्तीन के प्रति समर्थन की सराहना भी करी|

आखिर में संगठन के राष्ट्र अध्यक्ष नहास माला ने फिलिस्तीन के संघर्ष का समर्थन किया और हमेशा फिलिस्तीन के लिए योगदान को सुनिश्चित किया| उन्होंने सम्मलेन में मौजूद सभी लोगों के सक्रिय योगदान को एक क्रांति के रूप में देखा एक ऐसी क्रांति जो एक बड़ा बदलाव लाने का सक्षम है|

अन्य अतिथियों में जमात इस्लामी हिन्द सचिव भी शामिल थे

यह तीन दिवसीय सम्मलेन 25 फरवरी तक चलेगा जिसमे देशभर के वक्ता विभिन्न विषयों में संबोधित करेंगे|

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *