नरेंद्र दाभोलकर की पांच साल पहले हुई हत्या में शामिल मुख्य शूटर गिरफ्तार

20 अगस्त 2013 को पुणे में की गई थी दाभोलकर की हत्या

Ashraf Ali Bastavi

नई दिल्ली. सीबीआई ने सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर की हत्या में शामिल मुख्य शूटर को गिरफ्तार करने का दावा किया है। उसे पुणे से पकड़ा गया। वह औरंगाबाद का रहने वाला है। दाभोलकर की 20 अगस्त 2013 को पुणे में हत्या कर दी गई थी। वे अंधविश्वास के खिलाफ लोगों को जागरूक करते थे।

सीबीआई के मुताबिक आरोपी सचिन प्रकाशराव अंदुरे शनिवार रात पुणे से गिरफ्तार किया गया। वह औरंगाबाद का रहने वाला है। इससे पहले सीबीआई की चार्जशीट में आरोपियों के रूप में सारंग आकोल्कर और विनय पवार के नाम थे और दोनों को फरार बताया गया था। ऐसे में अब अंदुरे को आरोपी बनाए जाने के सवाल पर सीबीआई प्रवक्ता ने कहा कि मामले में पड़ताल जारी है।

एटीएस ने सीबीआई को दी थी जानकारी : सीबीआई के मुताबिक, अंदुरे को महाराष्ट्र एटीएस की निशानदेही पर गिरफ्तार किया। एटीएस ने पिछले हफ्ते राज्य में कथिततौर पर कुछ धमाकों की साजिश के संबंध में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। उन्हीं में से एक शरद कलस्कर है। जिसने नरेंद्र दाभोलकर हत्याकांड में शामिल होने की बात कबूली है। उसी ने बताया कि दाभोलकर की हत्या में अंदुरे भी शामिल था। एटीएस ने यह जानकारी सीबीआई को दी थी। साथ ही कलस्कर को उसके हवाले कर दिया था।

पहले तावड़े को किया था गिरफ्तार : इस मामले में सीबीआई ने जून 2016 में हिंदू जन जागृति समित के सदस्य वीरेंद्र तावड़े के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी। सीबीआई ने तब तावड़े को घटना का मुख्य साजिशकर्ता बताया था। उसे जून 2016 में गिरफ्तार कर लिया गया था।

चार हत्याएं, तरीका एक : आरोपी के गिरफ्तार किए जाने पर दाभोलकर की बेटी मुक्ता ने न्यूज एजेंसी से कहा, “उनकी हत्या के बाद इसी अंदाज में तीन और हत्याएं की गईं। जांच एजेंसियों का कहना था कि इन चारों हत्याओं का आपस में संबंध है। उन्हें विचारधारा के टकराव की वजह से मार दिया गया।” दाभोलकर के अलावा मराठी लेखक गोविंद पानसरे, कर्नाटक के विचारक एमएम कलबुर्गी और पत्रकार गौरी लंकेश की भी गोली मारकर हत्या की गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *