आम लोगों के लिए खुलेंगे सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे

रजिस्ट्रेशन कर लोग सुप्रीम कोर्ट में एक घंटे के लिए गाइड के साथ दौरा कर सकेंगे। सर्वजनिक अवकाश के दिनों को छोड़कर प्रत्येक शनिवार को सुप्रीम कोर्ट में घूमने के लिए लोग जा सकेंगे। बता दें कि शनिवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई नहीं होती है.

Awais Ahmad

अब भारत का सुप्रीम कोर्ट भी पर्यटन स्थल बन गया है। सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा अब आम आदमी के लिए भी खुल गया है। अब देश और विदेश का आम आदमी भी सुप्रीम कोर्ट में घूम सकता है और ऐतिहासिक महत्व वाली संरचना और कोर्टरूम भी देख सकेगा।

सुप्रीम कोर्ट में घूमने आने वाले लोग जज लाइब्रेरी भी जा पाएंगे। इस गाइडेड टूर योजना के तहत उन्हें एजुकेशनल फिल्म भी दिखाई जाएगी। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई ने गुरुवार को इस नए उपक्रम का ऐलान किया। निःशुल्क रखे गए इस टूर की शुरुआत इसी शनिवार से होगी। इसकी एडवांस बुकिंग ऑनलाइन होगी। बताया गया है कि जिस शनिवार घोषित अवकाश होगा, उस दिन टूर नहीं होगा। एक ट्रिप में 20-20 लोगों को इजाज़त दी जाएगी।

सुप्रीम कोर्ट ने आज एक औपचारिक पोर्टल लांच किया है। इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करके लोग आसानी से शनिवार को सुप्रीम कोर्ट में घूम सकेंगे। बता दें कि शनिवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई नहीं होती है।

बता दें कि फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में वकील, मुकदमे से संबंधित लोग, प्रैक्टिस करने वाले इंटर्न, लॉ स्टूडेंट्स और पत्रकारों को ही प्रवेश मिलता है।

बात दें सुप्रीम कोर्ट परिसर में घूमने के लिए लोगों को कोई फीस नहीं देनी होगी। दौरे के लिए सुबह 10 बजे से 1 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है। वेबसाइट पर दौरा बुक होने के बाद मोबाइल पर एक बार कोड मैसेज आएगा। इस मैसेज को सुप्रीम कोर्ट की रिसेप्शन डेस्क पर स्कैन कर लोगों के लिए एक अस्थाई इलेक्ट्रॉनिक प्रवेश कार्ड जारी किया जाएगा। जिसे दौरे के बाद वापस जमा करा लिया जाएगा। इस दौरान लोगों को न्यायाधीशों की लाइब्रेरी और कॉरिडोर में भी प्रवेश मिल सकेगा। सुप्रीम कोर्ट परिसर में दौरे के दौरान फोटोग्राफी नहीं कर पाएंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *