बोफोर्स की जांच बंद होगी, सीबीआई और याचिकाकर्ता ने वापस लिया आवेदन

Awais Ahmad

बोफोर्स मामले में सीबीआई ने कोर्ट को बताया की वह बोफोर्स मामले में आगे की जांच की अनुमति के लिए अपनी याचिका वापस लेना चाहती है। साथ ही निजी याचिकाकर्ता अजय अग्रवाल भी बोफोर्स मामले में आगे की जांच के लिए अपनी याचिका वापस नेता चाहते है।

दिल्ली की राऊज एवेन्यू कोर्ट ने सीबीआई को आवेदन वापस लेने की मंजूरी दी और अजय अग्रवाल से इस मामले में उनके अधिकार क्षेत्र को लेकर सवाल किया। मामले की अगली सुनवाई 6 जुलाई को होगी।

इससे पहले मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट नवीन कश्यप ने सवाल उठाते हुए कहा था कि सीबीआई को मामले की आगे की जांच के लिए अदालत की अनुमति की ज़रूरत क्या है। इसके अलावह उन्होंने सीबीआई से ऑन रिकोर्ट मामले में उन कानूनों का ज़िक्र करने के लिए कहा जिसके अंतर्गत उन्होंने बोफोर्स मामले में आगे की जांच के लिए अदालत की मंजूरी चाहिए।

सीबीआई ने अदालत के सामने कहा कि आगे की कार्रवाई के बारे में निर्णय उसके द्वारा लिया जाएगा और फिलहाल वह आवेदन को वापस लेना चाहती है। चार दिसंबर 2018 को अदालत ने सीबीआई से ओछा था कि उसे मामले में आगे की जांच के लिए अदालत की अनुमति की जरूरत क्यों है।

पहले उच्चतम न्यायालय ने बोफोर्स मामले में हिंदुजा बंधुओं को आरोप मुक्त करने वाले उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाली सीबीआई की याचिका खारिज कर दी थी। न्यायालय ने कहा था कि बोफोर्स मामले में उच्च न्ययालय द्वारा हिंदुजा बंधुओं को आरोप मुक्त किये जाने के खिलाफ अपील दायर करने में हुई देरी के सम्बंध में सीबीआई ने जो दलील दी है उससे वह संतुष्ट नही है।

न्यायालय ने कहा था कि अपील दायर करने में हुई 4500 दिन से भी ज़्यादा की देरी को माफ करने के सम्बंध में सीबीआई द्वारा बताए गए कारण तर्कसंगत नही है।

उच्चतम न्यायालय ने 64 करोड़ रुपये के बोफोर्स घोटाला मामले में हिंदुजा बंधुओं समेत सभी आरोपियों को आरोप मुक्त करने वाले उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाली सीबीआई की याचिका खरिज कर दी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *