जातिवादी मानसिकता विपक्ष की एकता के लिए बाधक तो नहीं!

मार्क्सवाद के अनुसार भी पूँजीवाद के बाद का दौर समाजवाद का है तो फिर वामपंथी और समाजवादी एक साथ क्यूँ

Read more

जनता को कीड़ा-मकोड़ा समझने वाली भारतीय पुलिस

11 अगस्त, 1954 को दक्षिण-त्रावणकोर में तमिल-भाषी लोग एक शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे। उनकी मांगथी कि त्रावणकोर-कोचीन के तमिल

Read more

दुनिया भर में बच्चों के मौत से चल रही सियासत पर जैन शम्सी की दर्द भरी अपील

राज बीती एपिसोड 6 देखें जैन शम्सी के साथ दुनिया भर में बच्चों के मौत से चल रही सियासत पर

Read more

बहुत से क्रांतिकारियों ने इस देश के लिए गुमनाम शहादत पाई है

चाय पे चर्चा: देश के लिए मर मिटने वाले सभी शहीदों की किस्मत शायद एक जैसी नहीं होती है।कुछ शहीद

Read more

रोजाना 500 भूखे लोगों को खाना खिलाने वाले इंसान : शमीम अहमद

उर्दू को पश्चिम बंगाल में दूसरी सरकारी भाषा का दर्ज़ा दिलवाने वाले इंकलाबी : शमीम अहमद चलते चलते जैन शम्सी

Read more

गुलामी और शासन सिर्फ और सिर्फ दिमाग का खेल

चाय पे चर्चा: भारत इतिहासिक तौर पर दुनिया के बेहतरीन मुल्कों में शामिल देश है। एक वक़्त था जब दुनिया

Read more

कासगंज सांप्रदायिक दंगा नहीं बल्कि भगवा और तिरंगा की लड़ाई थी

भारत हिन्दू राष्ट्र की तरफ नहीं बल्कि फासीवाद की तरफ जा रहा है| भारत हिन्दू राष्ट्र की तरफ नहीं बल्कि

Read more

गोदी मीडिया की चाटुकारिता अपनी चरम सीमा पर

गोदी मीडिया की चाटुकारिता अपनी चरम सीमा पर एक वो भी इंटरव्यू था जिसमें प्रधान सेवक जी सवालों के जवाब

Read more