बांग्लादेश क्रिकेट का नया सितारा ‘लिटन दास’

शम्स तमन्ना

Ashraf Ali Bastavi

हाल ही में समाप्त हुए एशिया कप के परिणाम बहुत हद तक उम्मीद के मुताबिक ही रहे। भारत को पहले से ही इसका दावेदार तय माना जा रहा था। हालांकि क्रिकेट पंडितों से लेकर प्रशंसकों को भी इस बात की उम्मीद थी कि फाइनल में भारत का मुकाबला उसके चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान के बीच होगा। लेकिन जैसा कि क्रिकेट को अनिश्चितता का खेल कहा जाता है इस कहावत को प्रशंसकों ने पूरी तरह चरितार्थ होते देखा। उम्मीद से बिलकुल उलट फाइनल मुकाबला भारत और पाकिस्तान के बीच नहीं बल्कि भारत और बांग्लादेश के बीच खेला गया। फाइनल मुकाबला शुरू होने से पहले भी क्रिकेट विशेषज्ञ इस बात को लेकर निश्चिन्त थे कि यह मुकाबला पूरी तरह से एकतरफा रहेगा और भारत आसानी से लगातार दूसरी बार एशिया कप का बादशाह बनेगा। लेकिन यहां भी क्रिकेट पंडित एक बार फिर गलत साबित हुए और बांग्लादेश ने भारत को कड़ी टक्कर दी। जहां  इस मैच का फैसला आखिरी ओवर की आखिरी गेंद पर हुआ।

एशिया कप 2018 एक ऐसा रोमांचकारी मैच साबित हुआ जिसे हर प्रशंसक दशकों तक याद रखेगा। रोमांचक क्रिकेट की जब जब बात की जाएगी तो इस फाइनल मैच का भी उदाहरण दिया जाएगा और इस मैच के असली हीरो लिटन दास को भी याद किया जायेगा। जिन्होंने बांग्लादेश के कुल 222 रन में अकेले 121 रनों का योगदान दिया। लिटन ने यह रन 12 चौके और 2 छक्कों की मदद से मात्र 117 गेंदों पर बनाये। उन्होंने तक़रीबन सभी भारतीय गेंदबाज़ों के लाइन और लेंथ को बिगाड़ दिया था। लिटन ने यह रन ऐसे वक़्त में बनाये जब दूसरी छोर पर बांग्लादेश के बाकी खिलाड़ी ‘आया राम गया राम’ हो रहे थे। यही कारण है कि बांग्लादेश के मैच हारने के बावजूद लिटन को मैन ऑफ़ दी मैच के लिए चुना गया। लिटन के अलावा केवल सौम्य सरकार (33) और मेंहदी हसन मिर्ज़ा (32) ही ऐसे खिलाड़ी थे जिन्होंने इस मैच में दहाई का आंकड़ा छुआ था। यानि अगर लिटन धमाकेदार पारी नहीं खेलते तो शायद बांग्लादेश की पूरी टीम 150 रन भी नहीं बना पाती और भारत यह मैच बहुत आसानी से जीत जाता। हालांकि इस पूरे टूर्नामेंट में लिटन का स्कोर कोई बहुत अच्छा नहीं था। फाइनल में खेलने से पहले वह केवल अफगानिस्तान के साथ खेले गए मैच में दहाई से ज़्यादा (41) रन बनाने में कामयाब हुए थे। लेकिन कहते हैं कि एक मैच में आपका बेहतरीन प्रदर्शन खेल इतिहास में आपको हीरो बना सकता है।

13 अक्टूबर 1994 को बांग्लादेश के दिनाजपुर में जन्मे दाएं हाथ के बल्लेबाज़ लिटन कुमार दास टीम के विकेटकीपर भी हैं। अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण से पहले लिटन बांग्लादेश की ओर से अंडर 15 और अंडर 19 खेल चुके हैं। 2012 और 2014 के अंडर 19 विश्व कप में उन्होंने एक शतक और तीन अर्द्ध शतक के साथ  51.33 की औसत से शानदार पारियां खेलकर बोर्ड का ध्यान अपनी ओर खींचा और अंतराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए अपनी जगह पक्की कर ली। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में लिटन ने 52 मैचों में 4212 बनाये हैं। इनमें 12 शतक और 20 अर्द्ध शतक शामिल है। इस दौरान उन्होंने  536 चौके और 46 छक्के भी लगाए हैं। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में लिटन का सर्वोच्च स्कोर 274 रन है। जबकि इस दौरान उन्होंने 75 कैच और 9 स्टंप भी किया है।

लिटन ने अबतक कुल 43 अंतराष्ट्रीय मैच खेला है। जिसमे 10 टेस्ट, 18 एकदिवसीय और 15 टी20 शामिल है। उन्होंने 2015 में अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया। इसी वर्ष लिटन ने  टेस्ट, एकदिवसीय और टी20 सभी फॉर्मेट खेला। उन्होंने अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत जून 2015 में भारत के खिलाफ की थी। जिसमे उन्होंने 8 चौके और 1 छक्के की मदद से 45 गेंदों पर शानदार 44 रन बना कर सुर्ख़ियों में आये थे। जबकि एकदिवसीय क्रिकेट की शुरुआत भी उन्होंने भारत के खिलाफ ही इसी वर्ष जून में किया था। जिसमें उन्होंने 23 गेंदों पर मात्र 8 रन बनाये थे। वहीँ उन्होंने टी20 क्रिकेट की शुरुआत भी इसी वर्ष जुलाई में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ किया था। जिसमे उन्होंने 1 छक्के की मदद से 26 गेंदों पर 22 रन बनाये थे। जबकि एक खिलाड़ी को विकेट के पीछे कैच आउट भी किया था।

लिटन ने 10 टेस्ट मैचों में 3 अर्द्ध शतकों के साथ अबतक कुल 457 रन बनायें हैं, जिनमें उनका सर्वोच्च स्कोर 94 रन हैं। टेस्ट मैच में उनका शतक का खाता खुलना अभी बाकी है। टेस्ट कैरियर में उन्होंने अबतक 63 चौके और 1 छक्का मारा है। जबकि विकट के पीछे उन्होंने 18 कैच और 2 स्टंप भी किया है। एकदिवसीय मैचों की बात की जाये तो अब तक उन्होंने 18 वनडे खेले हैं जिसमें कुल 346 रन बने हैं और उनका सर्वोच्च स्कोर एशिया कप के फ़ाइनल में बनाये गए 121 रन हैं। एकदिवसीय मैचों में उन्होंने अबतक 34 चौके और 5 छक्के लगाए हैं जबकि विकेट के पीछे उन्होंने अबतक 11 कैच और 3 स्टंप किया है। फ़टाफ़ट क्रिकेट यानि टी20 की बात की जाये तो लिटन ने अबतक 15 मैच खेले हैं जिसमे उन्होंने कुल 282 रन बनाये हैं, यहां उनका सर्वोच्च स्कोर 61 रन है। टी 20 में उन्होंने अबतक एक अर्द्ध शतक के साथ साथ 22 चौके और12 छक्के लगाए हैं जबकि इस दौरान उन्होंने 7 कैच भी पकड़े हैं।

बहरहाल इसी महीने बांग्लादेश को ज़िम्बाब्वे के साथ 3 एकदिवसीय और 2 टेस्ट मैच खेलने हैं। जबकि नवंबर में उसे वेस्ट इंडीज़ के साथ 2 टेस्ट, 3 एकदिवसीय और 3 टी20 खेलने हैं। जबकि अगले वर्ष जून में बांग्लादेश को आईसीसी विश्व कप में खुद को साबित करना है। जहां उसका मुकाबला विश्व की सर्वश्रेष्ठ टीमों से होना है। ऐसे में लिटन दास जैसे युवा खिलाड़ियों के पास खुद को साबित करने और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी अमिट छाप छोड़ जाने का भरपूर मौका होगा। अब देखना होगा कि लिटन अपना दमदार प्रदर्शन कब तक जारी रख पाते हैं और क्या वह आईसीसी विश्व कप में बांग्लादेश को विजेता बना पाते हैं या नहीं? हालांकि एक उभरते युवा खिलाड़ी से इतनी जल्दी और इतनी ज़्यादा उमीदें करना बेमानी होगा लेकिन अगर लिटन अपना प्रदर्शन ऐसे ही जारी रखते हैं तो बहुत जल्द वह क्रिकेट की दुनिया में छा सकते हैं। फिलहाल लिटन के जन्मदिन पर उनके शानदार प्रदर्शन के लिए ढ़ेरों शुभकामनाएं और भविष्य के लिए नेक दुआएं।

sarahshamstamanna@gmail.com

09350461877

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *