बाबरी मस्जिद पर क्या वाकई कोई सौदा हो रहा है ?

मौलाना सलमान नदवी ने इस बात का उल्लेख किया कि हंबली मसलक में इस बात का उल्लेख है कि बड़े मकसद के लिए मस्जिद छोड़ी जा सकती है

एशिया टाइम्स

नई दिल्ली/ लखनऊ: बाबरी मस्जिद राम मंदिर विवाद पर दिल्ली में सिराजुद्दीन कुरैशी की अगुवाई में होने वाली मीटिंग की खबर वतन समाचार के जरिये ब्रेक किए जाने के बाद (हालांकि सिराजुद्दीन कुरैशी इस से इनकार कर चुके हैं, जब कि आर्ट ऑफ़ लिविंग का दावा है कि मीटिंग सिराजुद्दीन कुरैशी ने ही बुलाई थी) रद्द (स्थगित) होने के बाद अब इसका सौदा दिल्ली से 554 किलोमीटर दूर लखनऊ में शुरू हो गया है यह रिपोर्ट  न्यूज़ पोर्टल  वतन समाचार डॉट कॉम    ने दी है .

अधिवक्ता इमरान के घर पर हुई मीटिंग

पोर्टल लिखता है कि सूत्रों   से मिली जानकारी के अनुसार बाबरी मस्जिद के सौदे को लेकर लखनऊ स्थित महानगर में एडवोकेट इमरान (जिन का संबंध समाज वादी पार्टी से है और वह 2012 में मोहम्मदी विधान सभा सीट से चुनाव भी लड़ चुके हैं) के घर पर हुई मीटिंग में पर्सनल ला बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना राबे हसनी नदवी के रिश्तेदार मौलाना सलमान नदवी (पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य) के साथ कई बिल्डर मौलाना सज्जाद नोमानी (प्रवक्ता पर्सनल ला बोर्ड) के भतीजी और तनवीर प्रेस के मालिक ज़ुन्नूं नोमानी पूर्व नोकर शाह अनीस अंसारी आर्ट अफ लिविंग के प्रतिनिधि गौतम विग (विज) यूपी वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ज़फर फारूक टीले वाली मस्जिद के इमाम के पुत्र और उनके कुछ आलिम साथी भी उपस्थित थे.

मौलाना सलमान नदवी ने श्री श्री से विडिओ कांफ्रेंसिंग पर की बात 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मौलाना सलमान नदवी की 03 फरवरी को लखनऊ में हुई मीटिंग के दौरान आर्ट ऑफ लिविंग के मुखिया श्री श्री रविशंकर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बातचीत भी हुई थी.

मीटिंग में बुलाये गए एक वरिष्ठ समाज सेवी और नेता ने बताया कि मीटिंग मगरिब की नमाज़ के बाद बुलाई गयी थी जो मौलाना सलमान नदवी के देर से पहुँचने की वजह से 07 बजे शुरू हुई और 09 बजे तक जारी रही.

कैसे मुसलमान छोड़ सकते हैं बाबरी, हंबली मसलक में है इजाज़त?

वतन समाचार को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मीटिंग में इस बात को लेकर चर्चा की गई कि कैसे मुसलमान बाबरी मस्जिद को छोड़ सकते हैं, जिसमें मौलाना सलमान नदवी ने इस बात का उल्लेख किया कि हंबली मसलक में इस बात का उल्लेख है कि बड़े मकसद के लिए मस्जिद छोड़ी जा सकती है और हमको बड़े पैमाने पर देखना होगा.

08 फरवरी को सलमान नदवी की श्री श्री से होगी मीटिंग

वतन समाचार को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 8 फरवरी को बेंगलुरु में मौलाना सलमान नदवी श्री श्री से मिलने वाले हैं. मौलाना सलमान नदवी मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड में भी इस बात को मजबूती से रखेंगे. मौलाना सलमान नदवी जल्द ही भटकल जाने वाले हैं और भटकल में वह अपने किसी प्रोग्राम से फ्री होने के बाद सीधे बैंगलोर आर्ट ऑफ लिविंग के मुख्या श्री श्री से मिलने जाएंगे.

मीटिंग में इस बात का भी जिक्र किया गया कि अगर मुसलमान अपनी बात रखें कि आगे किसी मस्जिद को तोड़ा नहीं जाएगा. मस्जिदों पर इस तरह के विवादित केस वापस लिए जायेंगे. बाबरी मस्जिद के लिए उतनी ही ज़मीन कहीं और ले ली जाये जाए जहां मस्जिद बना दी जाए और जिन लोगों ने बाबरी मस्जिद गिराई थी उन को सजा मिले तो मस्जिद छोड़ी जा सकती है.

वतन समाचार को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मीटिंग में कुछ लोगों ने यह भी कहा कि मुसलमान कुछ कॉलेज या यूनिवर्सिटी की बात करें तो जफर फारूकी ने कहा कि कॉलेज यूनिवर्सिटी पर बल ना दिया जाए, हालांकि ज़फर फारूकी का कहना है कि मै ने कहा कि वक्फ़ की ज़मीन को एक्सचेंज करने की अथारटी नहीं है… और मै ने कॉलेज यूनिवर्सिटी पर कोई बात नहीं की थी.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मौलाना सलमान नदवी ने मीटिंग में इस बात का उल्लेख किया कि उन्होंने बहुत सारे लोगों को अयोध्या प्रकरण पर पत्र भी लिखा था, जिस पर बहुत से लोगों ने खामोशी अख्तियार की है.

प्रधान मंत्री से होगी बात:

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पहले आर्ट ऑफ लिविंग के मुखिया श्री श्री से मिलने की बात हो रही है और उसके बाद फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिलने का प्रोग्राम बनाया जाएगा. रिकॉर्डिंग के अनुसार मौलाना सलमान नदवी का कहना है की उम्मत को बड़े मामले के लिए इस केस को वापस ले लेना चाहिए और इसमें RSS और दुसरे संगठनों से बात होनी चाहिए.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जब मौलाना राबे हसनी नदवी मौलाना अरशद मदनी और दुसरे तमाम लोग यह कह चुके हैं कि कोर्ट का फैसला ही आखरी होगा, तो फिर इस तरह की बात क्यों हो रही है.

मस्जिद की जगह नहीं बदली जा सकती है: हंबली मसलक 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हंबली मसलक के मानने वालों की बड़ी तादात सऊदी अरब में रहती है और सऊदी से इस सिलसिले में भी फतवा मंगाया जा चूका है कि मस्जिद की जगह को बदला नहीं जा सकता है.

बोर्ड के मत में कोई बदलाव नहीं: मौलाना सज्जाद नोमानी

इस पूरी मामले पर वतन समाचार से बात करते हुए आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना सज्जाद नोमानी से जब वतन समाचार ने बात चीत की तो उन्हों ने पहले कहा कि बोर्ड का मत साफ़ है और वह कई बार कह चुके हैं, लेकिन अगर बोर्ड में इसी कोई बात आयेगी तो इस पर बहस होगी. फिर उन्होंने खुद को संभालते हुए कहा कि अगर कोई इस तरह की राय बोर्ड में पेश करेगा तो उसको उसका जवाब दिया जाएगा.

बेटे की भी बात से सहमति जरूरी नही: नोमानी

मौलाना नोमानी ने यह भी कहा कि जहां तक मेरे भतीजे के मीटिंग में होने की बात है तो उसका नाम न लिया जाए. अगर मेरा बेटा भी कोई ऐसा काम करेगा तो मैं उसकी ताईद (सपोर्ट) नहीं कर सकता हूं. उन्होंने कहा कि जहां तक रही बात बोर्ड की छवि धूमिल होने की तो किसी एक के कुछ कह देने से बोर्ड की छवि धूमिल नहीं होती है. उन्होंने कहा कि बोर्ड का मत पहले ही बहुत साफ है इसमें अगर-मगर की कोई गुंजाइश नहीं है.

मेरे घर पर मीटिंग बाबरी मसले पर नहीं हुई थी:एडवोकेट इमरान

वतन समाचार से बात करते हुए एडवोकेट इमरान ने कहा कि बाबरी मस्जिद के मामले में उनके घर पर कोई मीटिंग नहीं हुई थी, जबकि मौलाना सलमान नदवी ने बाबरी मस्जिद प्रकरण में हुई मीटिंग की पुष्टि की. एडवोकेट इमरान का कहना है कि इस तरह की मीटिंग उनके घर पर लखनऊ में होती रहती हैं, जिसमें फिरंगी महल अनीस अंसारी मौलाना सलमान नदवी समेत कई लोग उपस्थित होते रहते हैं.

मीटिंग में बाबरी विवाद सुलझाने की बात हुई: सलमान नदवी

सलमान नदवी ने कहा कि एडवोकेट इमरान और अतहर भाई समेत कुछ लोगों ने मीटिंग बुलाई थी, जिसका वह भी हिस्सा थे. मौलाना सलमान नदवी के अनुसार 8 फरवरी को श्री श्री रविशंकर से बेंगलुरु में वह मिलेंगे, जिसमें कई साधु-संत और उलेमा हजरात होंगे. मसलहती फार्मूले पर बातचीत होगी. सलमान नदवी ने यह भी कहा कि हंबली मसलक इस बात की इजाजत देता है. यह मेरी राय है इस पर अमल कर लेना चाहिए.

नहीं मानी गयी 03 तलाक़ पर मेरी बात, बोर्ड से होगा संवाद: नदवी

उन्होंने कहा कि मैंने तीन तलाक के सिलसिले में भी यही बात कही थी कि अगर एक मसलक तीन तलाक को एक तलाक मानता है तो उसको मानकर झगड़े को खत्म कर लेना चाहिए, लेकिन ऐसा न करने की सूरत में जो हुआ वह हमारे सामने है. मौलाना सलमान नदवी ने यह भी कहा कि मैं बोर्ड में अपनी बात रखूंगा, लेकिन यह बोर्ड के लोगों का काम है कि वह मेरी बात से सहमत हैं या असहमत. मौलाना सलमान नदवी के अनुसार जहां तक रही बात मेरे काम से मौलाना राबे हसनी नदवी की छवि धूमिल होने की जो मेरे रिश्तेदार भी हैं तो इस को मैं नहीं मानता, क्योंकि आदमी का अपना मत भी हो सकता है और मीटिंग में मौलाना राबे हसनी नदवी साहब का मत भी जानने की कोशिश होगी.

…अभी मै बात नहीं कर सकता: गौतम

इस पूरे मामले पर जब आर्ट ऑफ लिविंग के प्रतिनिधि गौतम विग से बातचीत की गई तो उन्होंने फोन उठाकर थोड़ी देर बाद बातचीत की. पूरा सवाल सुनने के बाद उन्होंने कहा कि वह अभी खाना खा रहे हैं इस मामले पर कोई बातचीत नहीं कर सकते हैं.

जब बोर्ड के सामने मौलना बात रखेंगे तब ना आप बात कीजिये गा: मौलाना वाली रहमानी

इस पूरे मामले पर जब बोर्ड के महासचिव मौलन वाली रहमानी से बात की गयी तो उन्हों ने बताया कि जब बोर्ड में कोई बात आयेगी तो हम से पूछिएगा. लखनऊ से सूत्रों ने बताया कि इस मीटिंग की खबर मौलाना वाली रहमानी को भी है और उन्होंने मौलाना राबे से इस मामले पर बात भी की है, हालांकि मौलाना वाली रहमानी ने इस का खंडन किया है.

साभार : वतन समाचार डॉट कॉम 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *