बाबरी मस्जिद विवाद : जाने 12 वें दिन की सुनवाई में क्या हुआ

Awais Ahmad

निर्मोही अखाड़ा के वकील सुशील कुमार जैन ने निचली अदालत में हुए गवाहों के बयान को सुप्रीम कोर्ट के सामने रख और बताया कि गोपाल सिंह विशारद के बयान का बयान को क्रोस एग्जामिन नही किया गया

निर्मोही अखाड़ा के वकील ने कहा कि मेरे शेबेट होने के वजह से मेरे पास पूजा और रखरखाव के अधिकार को किसी ने भी चेलेंज नही किया तो अब कैसे वह मेरे अधिकार को चुनौती दे सकते है

जस्टिस बोबडे ने निर्मोही अखाड़ा से पूछा कि तो आप इस याचिका से क्या चाहते है?

निर्मोही अखाड़ा ने कहा कि हम रखरखाव और ज़मीन का अधिकार चाहते हैं, पूजा हमारे द्वारा ही कराई जाती है,यह गतिविधियां शेबेट की हैं और मुझे इनका पालन करना है।

जस्टिस बोबडे ने पूछा कि क्या अखाड़ा ने सभी साधु संगठन अपने नाम के साथ दास लगते है?

निर्मोही अखाड़ा के वकील सुशील कुमार जैन कहा कि वह भगवान राम के दास हैं और इसलिए उन्होंने अपने नामों में दास जोड़े हैं, कुछ लोग अपने नाम के आगे चरण भी लगते है।

जस्टिस चन्द्रचूड़ ने कहा कि अखाड़ा के शेबेट होने पर कोई विबाद नही है, निर्मोही अखाड़ा अभी राम जन्मभूमि के प्रतिनिधि के तौर पर है?

जस्टिस बोबडे ने कहा कि अगर रामलला की याचिका निरस्त हो जाती है तो आप किसी के शेबेट होंगे?

जस्टिस डी वाई चन्द्रचूड़ ने कहा कि अगर रामलला की याचिका खारिज हो गई तो आप मस्जिद के शेबेट नही हो सकते, आपको रामलला की याचिका के विरोध की ज़रूरत नही है

निर्मोही अखाड़ा ने कहा कि अगर सूट खारिज किया जाता है तो मुझे कब्ज़ा सौंप दिया जाएगा

CJI रंजन गोगोई ने निर्मोही अखाड़ा से कहा कि आप इस मामले में नोट बनाइये और कल जिरह करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *