एन एस ए National Security Act या 'रासुका' राष्ट्रीय सुरक्षा कानून क्या है?

राष्ट्रीय सुरक्षा कानून 1980 में बना, देश की सुरक्षा के लिए सरकार को अधिक शक्ति देने से संबंधित एक कानून है। यह कानून केंद्र और राज्य सरकार को गिरफ्तारी का आदेश देता है

ऐसा लगता है दिल्ली में जारी धरनों को  दबाने की जानिब अनिल बैजल की तैयारी है। 

नई दिल्ली: (एशिया टाइम्स) उपराज्यपाल अनिल बैजल ने शुक्रवार को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत दिल्ली पुलिस आयुक्त को किसी भी व्यक्ति को हिरासत में लेने का अधिकार दिया। रिपोर्ट के मुताबिक, आयुक्त को 19 जनवरी से 18 अप्रैल तक यह आपातकालीन शक्तियां प्रदान की गई है। रासुका कानून ऐसे व्यक्ति को एहतियातन महीनों तक हिरासत में रखने का अधिकार देता है, जिससे प्रशासन को राष्ट्रीय सुरक्षा और कानून व्यवस्था के लिए खतरा महसूस होता हो

एन एस ए या  'रासुका' क्या है?
राष्ट्रीय सुरक्षा कानून 1980  में बना, देश की सुरक्षा के लिए सरकार को अधिक शक्ति देने से संबंधित एक कानून है। यह कानून केंद्र और राज्य सरकार को गिरफ्तारी का आदेश देता है। रासुका के तहत किसी भी संदिग्ध व्यक्ति को बिना किसी आरोप के 12 महीने तक जेल में रखा जा सकता है। राज्य सरकार को इसकी जानकारी देनी पड़ती है कि रासुका के तहत एक व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है। 23 सितंबर, 1980 को इसे बनाया गया था। 

'रासुका' बहुत पहल्रे से उत्तर प्रदेश में लागू है

'रासुका' बहुत पहल्रे से उत्तर प्रदेश में लागू है यह वही 'रासुका' है जिसकी धमकी अक्सर  उत्तर प्रदेश पुलिस कभी भी किसी को भी देती रहती है ,इस क़ानून से अक्सर वह लोग शिकार  बनाये जाते हैं जो सिस्टम से सवाल करते हैं सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ खड़े होते  हैं। ऐसा लगता है दिल्ली में जारी धरनों को  दबाने की जानिब अनिल बैजल की तैयारी है। 

0 comments

Leave a Reply