केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा को संयुक्त राष्ट्र ने किया सम्मानित, कोरोना से लड़ने के प्रयासों के लिए की सराहना

स्टोरी 2 मिनट में पढ़ें

 

संयुक्त राष्ट्र ने 23 जून को मनाए गए अपने लोक सेवा दिवस पर कोविड-19 से लड़ने में राज्य की उपलब्धि को मान्यता दी थी। स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा राज्य द्वारा अपनाई गई रणनीतियों के बारे में बोलने वाली देश की अकेली वक्ता थी।


संयुक्त राष्ट्र की एक वेबिनार में, केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुतारेस, महासभा के अध्यक्ष तिजानी मुहम्मद-बंदे, कोरिया चिन यंग गणराज्य के आंतरिक और सुरक्षा मंत्री, विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस अदनोम घेब्रेयस, इथियोपिया के अध्यक्ष साहले-वर्क ज्वडे समेत संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अपने विचार साझा किए।


योर स्टोरी डॉट कॉम की रिपोर्ट कहती है कि यह आयोजन उन नेताओं को सम्मानित करने के लिए आयोजित किया गया था जिन्होंने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सराहनीय काम किया है। मॉडरेटर, ओडेट रामसिंह, जो सेफ़ाको मकागाथो हेल्थ साइंसेज यूनिवर्सिटी के कार्यकारी निदेशक हैं, ने शुरुआती हस्तक्षेप के कारण राज्य में कम मृत्यु दर के लिए शैलजा का सम्मान किया। उन्होंने ‘कोरोना स्लेयर’ शीर्षक का उल्लेख किया, जिसका इस्तेमाल कुछ अंतर्राष्ट्रीय मीडिया ने बात करने के लिए स्वास्थ्य मंत्री को आमंत्रित करने के लिए किया था।


स्वास्थ्य मंत्री ने इस बारे में बात की कि 2018 में निप्पा के प्रकोप में कैसे अनुभव हुआ और बाढ़ ने राज्य को शुरुआत में ही कोविड-19 को तैयार करने और लड़ने में मदद की। शैलेजा ने कहा, ‘‘राज्य में विकेंद्रीकृत सार्वजनिक स्वास्थ्य वितरण प्रणाली (decentralised public health delivery systems) को मजबूत करके, हमने अपने संपूर्ण निगरानी नेटवर्क को सक्रिय कर दिया है, जो डब्ल्यूएचओ द्वारा घातक वायरस पर सावधानी बरतने के बयान के अगले दिन सक्रिय हो गया है।

 

’’ शैलेजा के अनुसार प्रसार और मृत्यु दर को कम करने पर ध्यान केंद्रित किया गया था। उन्होंने कहा कि राज्य स्थानीय प्रसार को प्रबंधित करने में कामयाब रहा। शैलजा ने संयुक्त राष्ट्र की इस वेबिनार में अपने द्वारा अपनाई गई तीन रणनीतियों - "ट्रेस, क्वारंटीन, टेस्ट, आइसोलेट एंड ट्रीट", "ब्रेक द चेन" और "रिवर्स क्वारंटाइन" को समझाया।

 


0 comments

Leave a Reply